Muzaffarpur Jobs Scandal: नौकरी नाम पर, मुजफ्फरपुर में 100 से ज्‍यादा लड़कियों का यौन शोषण हुआ?

0
150
Muzaffarpur Jobs Scandal
Muzaffarpur Jobs Scandal

Muzaffarpur Jobs Scandal : बिहार के मुजफ्फरपुर में 100 लड़कियों के साथ यौन शोषण मामला सामने आया है, जिसमें लड़कियों को नौकरी का झूठा वादा करके फुसलाया जाता था और फिर उनका यौन शोषण किया जाता था। इस घटना ने पुरे पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। एक कमरे में महिलाओं के साथ मारपीट का कथित वीडियो अब वायरल हो गया है।

Muzaffarpur Jobs Scandal: आरोपी तिलक कुमार को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। ( Image Source :ANI )

Muzaffarpur Jobs Scandal कांड पर प्रतिक्रिया देते हुए आरजेडी सांसद भाई वीरेंद्र ने कहा कि बिहार में कुछ नेता लड़कियों की सप्लाई कर रहे हैं और यह कांड उन्हीं से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि अगर ऐसे लोगों पर लगाम नहीं लगाई गई तो यह सिलसिला जारी रहेगा।

यह मामला तब सामने आया जब एक महिला ने पुलिस से संपर्क किया। छपरा की शिकायतकर्ता ने अहियापुर थाने में मामला दर्ज कराया। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, अब तक इस मामले में नौ लोगों पर मामला दर्ज किया गया है।

Muzaffarpur Jobs Scandal क्या है पुरा मामला ?

सोमवार 17 जून 2024 को मुजफ्फरपुर में नौकरी दिलाने के बहाने कई लड़कियों से दुष्कर्म का मामला सामने आया। यह मामला जिले के अहियापुर इलाके का है, जहां कई लड़कियों को कथित तौर पर बंधक बनाकर रखा गया था। रिपोर्ट के अनुसार, उनके “अपहरणकर्ताओं” ने महिलाओं को कॉल सेंटर में नौकरी दिलाने का वादा किया था, लेकिन जैसे ही वे अपने घरों से बाहर निकलीं, उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया गया, मार पीट किया गया और उनका यौन शोषण किया गया।

सोमवार को मारपीट का एक वीडियो सामने आया, जिसमें एक महिला को बेल्ट से बेरहमी से पीटते हुए देखा जा सकता है।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि वह 2022 में एक फेसबुक पोस्ट के ज़रिए एक संगठन से जुड़ी जो महिलाओं को नौकरी देने की काम कर रहा था। उसने नौकरी के लिए आवेदन किया और “चयनित” हो गई। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, अब पता चला है कि यह संगठन फ़र्जी दस्तावेज़ों के साथ काम कर रहा था।

चयन के बाद शिकायतकर्ता से “प्रशिक्षण” के लिए 20,000 रुपये मांगे गए। पैसे जमा करने के बाद उसे अहियापुर थाना क्षेत्र के एक कमरे में अन्य लड़कियों के साथ ठहराया गया। जब तीन महीने बाद भी उसे कोई वेतन नहीं मिला तो उसने इस मामले को संगठन के एक “अधिकारी” के समक्ष उठाया, जिसने उसे बताया कि अगर वह “कॉल सेंटर” में 50 लड़कियों को ला सके तो उसे पूरा वेतन दिया जाएगा और उससे भी ज्यादा।

मुजफ्फरपुर पीड़िता को ‘सीएमडी’ से शादी के लिए मजबूर किया गया

शिकायतकर्ता ने बताया कि बाद में उसे और अन्य लड़कियों को अहियापुर से हाजीपुर ले जाया गया। जल्द ही आरोपी लड़कियों के साथ रहने लगे और उनका यौन शोषण करने लगे। उनकी मांगें न मानने पर लड़कियों की पिटाई की जाती थी।

शिकायतकर्ता ने कहा कि उसे तिलक सिंह से “शादी” करने के लिए मजबूर किया गया, जो खुद को कंपनी का ‘सीएमडी (अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक)’ बताता था। अन्य लड़कियों को भी दूसरे आरोपी से “शादी” करने के लिए मजबूर किया गया। हाजीपुर में रहने के दौरान, तिलक सिंह ने कथित तौर पर उसके साथ ज़बरदस्ती की। उसने पुलिस को बताया कि वह जल्द ही गर्भवती हो गई, लेकिन उसे गर्भपात कराने के लिए मजबूर किया गया।

पीड़िता ने कहा कि जब उसने अपनी माँ के घर जाने पर ज़ोर दिया, तो उसके साथ मारपीट की गई। इस समय तक, उसे एहसास हो गया था कि उसे कोई नौकरी नहीं मिल रही है और वह धोखाधड़ी का शिकार हो गई है। वह किसी तरह भागने में सफल रही और उसने शिकायत दर्ज कराई। IE रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस शुरू में उसकी शिकायत स्वीकार नहीं कर रही थी।

Muzaffarpur Jobs Scandal पर पुलिस

मुजफ्फरपुर एसडीपीओ विनीता सिन्हा कहा कि इस बात की जांच की जाएगी कि पुलिस ने उनकी शिकायत पहले क्यों नहीं ली। उन्होंने कहा: “हमारी जानकारी में आया है कि एक कंपनी फर्जी कॉल सेंटर चला रही थी जिसमें महिलाओं को बहला-फुसलाकर ठगा जा रहा था। इस संबंध में 9 जून 2024 को एफआईआर दर्ज की गई है। वादी का बयान दर्ज कर लिया गया है। मामले की आगे की जांच की जा रही है, आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here